ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए नियमो में बदलाव, अब आपको करना होगा ये सब 

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए नियमो में बदलाव, अब आपको करना होगा ये सब

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए नियमो में बदलाव, अब आपको करना होगा ये सब 

जी हां दोस्तों अगर आपको अपना ड्राइविंग लाइंसेंस बनवाना है तो अब आपको सरकारी नौकरी वालो और RTO जाकर टाइम वैस्ट करने की जरुरत नहीं और ना ही किसी को रिस्वत देने की जरुरत नहीं, क्योकि परिवहन मंत्रालय नई निति निर्धारित की है, जिससे आपको आसानी से ड्राइविंग लाइसेंस बन जायेगा, सरकारी नौकरी वाले काम करते नहीं और तनख्वा जयादा लेते है इसीलिए सरकार सभी का निजीकरण क्र रही है जिससे आप लोगो को समय पर सही फैसिलिटी मिल सके,  

 

ड्राइविंग लाइसेंस के लिए परिवहन मंत्रालय की नई प्रणाली क्या है ?

दोस्तों परिवहन मंत्रालय की और से बताई गई जानकारी के मुताबिक ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए RTO ऑफिस में टेस्ट का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल से अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल से ट्रेनिंग लेना होगा और वहीं पर टेस्ट को पास करना होगा स्कूल की ओर से एप्लीकेंट (applicant) जारी किया जाएगा। इसी सर्टिफिकेट (certificate) के आधार पर एप्लीकेंट ड्राइविंग लाइसेंस को बना दिया जाएगा

 

ड्राइविंग लाइसेंस की नई अपडेट 

  • पहले की तरह ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए के लिए आपको ड्राइविंग टेस्ट देने की आवश्यकता नहीं है,
  • ड्राइविंग लाइसेंस बनाने के लिए RTO ऑफिस जाने की जाने की भी आवश्यकता नहीं है,
  • केवल आपको मोटर ट्रेनिंग स्कूल से एक सर्टिफिकेट लेना होगा,

ड्राइविंग लाइंसेस का स्कूल कैसा हो ?

  1. ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर के ट्रेनर को कम से कम 12वीं कक्षा पास होना चाहिए और उस ट्रेनर को कम से कम 5 साल का ड्राइविंग अनुभव भी होना चाहिए उसे यातायात नियमों की बहुत अच्छी तरह से पालन करना चाहिए,  
  2.  एजेंसियों के द्वारा बताया गया है दोपहिया, तीन पहिया, चार पहिया, हल्के मोटर वाहनों के लिए ट्रेनिंग सेंटर के पास कम से कम 1 एकड़ ( लगभग 1.62 बिघा ) जमीन हो, मध्यम और भारी यात्री वाहनों या टेलर के लिए सेंटर के पास कम से कम 2 एकड़ (लगभग 3.24 बिघा) जमीन होना अति आवश्यक है तभी वह ड्राइविंग लाइसेंस ट्रेनिंग सेंटर चला सकते हैं,
  3. परिवहन मंत्रालय के द्वारा एक और नियम भी बताया गया है 4 पहिया, हल्के मोटर वाहन चलाने के लिए शिक्षण पाठ्यक्रम में ट्रेनिंग स्कूल में चलाया जाएगा,
  4. लोगों को बताया जाएगा बेबुनियाद ( Local Raod ) सड़क, ग्रामीण सड़क, राजमार्ग, शहर की सड़क, रिवर्शिंग, पार्किंग, चढ़ाई, डाउनहिल ड्राइविंग पर गाड़ी चलाते समय सीखने में अलग से 21 घंटे खर्च करने होंगे,
  5. शिक्षण पाठ्यक्रम का अवधि 4 हफ्ते का होगा जो लगभग 29 घंटे तक चलेगा। इन ड्राइविंग सेंटर के पाठ्यक्रम को दो हिस्सों में बांटा दिया गया है,

A. पहले चरण में – इसमें रोड शिष्टाचार समझना रोडवेज प्राथमिक शिक्षा दुर्घटना के कारणों को समझना, 

B. दूसरे चरण में – प्राथमिकी चिकित्सा और ड्राइविंग को समझना इत्यादि बताया जाएगा,

इसे भी पढ़े :LPG रसोई गैस 937 रूपये में नहीं अब सिर्फ 634 रूपये में मिलेगा गैस सिलेंडर, आपको करना होगा बस ये काम

निष्कर्ष

मित्रो आज हमने आपको ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने का नियम में जो बदलाव है उनके बारे में बतलाया है और ये सब कुछ हमने आपको हिंदी में विस्तार से बताया है। इसलिए हम आपसे उम्मीद करते हैं, कि आपको आज का ये आर्टिकल आवश्यक पसंद आया होगा, इस आर्टिकल के बारे में आपकी क्या राय है, तो आप हमें नीचे कमेंट करके बता सकते है,

 

2 thoughts on “ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए नियमो में बदलाव, अब आपको करना होगा ये सब 

Leave a Reply

Your email address will not be published.